Monday, March 19, 2007

ऑटो-मे-टकली

एक बार संता गंगुबाई के घर जाता है और दरवाज़ा knock करता है.
गंगुबाई: कौन ?
संता: मैं !
गंगुबाई: मैं कौन?
संता: ओये, तू गंगुबाई..

बंता: यह चाक़ू क्यों उबाल रहे हो?
संता: Suicide करने के लिए
बंता: तो फिर उबलने कुई क्या ज़रूरत है?
संता: कहीं infection ना हो जाये ।

संता अपनी खूबसूरत बीबी के साथ कार में बैठा। ड्राइवर ने शीशा सेट किया. संता ग़ुस्से में बोला, मेरी बीबी को देखता है, पीछे बैठ , कार में चलाऊंगा!

बंता: परेशान लग रहे हो? क्या हुआ?
संता: में बाप बनने वाला हूँ
बंता:पर यह तो अच्छा है
संता: इसमे अच्छा क्या है? मेरी बीबी को अभी तक नही पता है!

बंता: यह AUTOMATICALLY क्या होता है?
संता: ओये तेनु एह वी नहीं पता, जब ऑटो में कोई गंजी लडकी जा रही हो तो उसे कहते हैं ऑटो-मे-टकली